राष्ट्रपति रजब तय्यब एर्दोगान एक तुर्की सहायता समूह ने अपने कृत्रिम (नकली) पैरों को देने के लिए जीवन-परिवर्तनकारी शल्य चिकित्सा के लिए भुगतान किया, शनिवार को एक 8 वर्षीय सीरियाई शरणार्थी लड़की ने तुर्की को लंबा सफर तय किया, जिससे उसका सबसे बड़ा सपना पूरा हुआ है.

तुर्की मीडिया के मुताबिक, जन्मजात हालत के कारण माया और अली मेरी के कामकाजी पैरों की कमी है, और इस जून तक अपने पिता द्वारा संलग्न अतिरिक्त टिन के डिब्बे का उपयोग करने के लिए संघर्ष करना पड़ा, जब तुर्की रेड क्रिसेंट उन्हें तुर्की लाये तब इनका इलाज कराया.

शनिवार को माया और अली मेरी, उनके पिता, तुर्की के लाल क्रिसेंट के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ सफल उपचार के बाद उत्तर पश्चिमी सीरिया के इदलिब में सेर सेबेल शरणार्थी शिविर में लौट आए. सीरियाई लड़की को वैश्विक ध्यान मिला जब इडिलिब में स्थित अनाडोलू एजेंसी के पत्रकारों ने 21 जून को दुनिया के साथ अपनी कहानी साझा की, जिससे तुर्की रेड क्रिसेंट ने उन्हें मदद करने की पेशकश की.

उन्होंने गर्मी में अनाडोलू एजेंसी से कहा, “मेरे पास एक सपना है, जो चलना है.” उनके पिता ने अनाडोलू एजेंसी से कहा कि वह उनके इलाज में शामिल सभी के लिए आभारी है. साथ ही बच्ची ने एर्दोगान का ख़ास शुक्रिया अदा किया.

बच्ची ने कहा की हम उन सभी को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने हमारे जीवन को आसान बना दिया। माया कृत्रिम होने के लिए बहुत खुश हैं। हम तुर्की सरकार का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं.” तुर्की रेड क्रिसेंट के सीरिया क्षेत्र समन्वयक, कदीर अकुंडुज़ ने कहा कि उन्होंने कुछ महीने पहले माया का ख्याल रखना शुरू कर दिया था.

सऊदी परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 


न्यूज़ अरेबिया एकमात्र न्यूज़ पोर्टल है जो अरब देशों में रह रहे भारतीयों से सम्बंधित हर एक खबर आप तक पहुंचाता है इसे अधिक बेहतर बनाने के लिए डोनेट करें
डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here